Tuesday, 16 May 2017

कोई अपना है

दूर कहीं से आहट आई लगता है कोई अपना है,
कहते हैं ये हवा के झोंके लगता है कोई अपना है।
खो गया है करार दिल का मारा -मारा फिरता हूँ,
किसने किया है हाल ये मेरा लगता है कोईअपना है।
सात समंदर पार बिठाकर मुझको तन्हा छोड़ दिया,
दिल उसे फिर भी दुआ देता है गता है कोई अपना है।
किसको निगाहें ढूंढ रही हैं किसकी बातें करती हैं,
किसकी याद रुला देती है लगता है कोई अपना है।
दर्द हमेशा ही देता है मुझको सताता है फिर भी,
उसपे हमेशा प्यार आता है लगता है कोई अपना है।

No comments:

Post a Comment